*स्वागत नहीं होने से मत्स्य कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष नाराज, मुश्किल से माने*

विवेक मालवीय

इंदौर -: प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के तीसरे वार्षिक समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में आए मत्स्य कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष सीताराम बाथम स्वागत नहीं होने से नाराज हो गए। कार्यक्रम के गेट पर उनका कोई स्वागत करने नहीं पहुंचा और न मंच पर स्वागत किया गया। इससे वे भड़क गए। मंच पर उन्होंने केंद्रीय मंत्रियों के सामने ही अधिकारियों से झगड़ा किया। उन्हें मुश्किल से शांत कराया गया
कार्यक्रम शुरू होने से पहले ब्रिलिएंट

कन्वेंशन सेंटर पहुंचे मुख्य अतिथि सीताराम बाथम इस बात पर नाराज हुए कि उन्हें गेट पर रिसीव करने कोई अधिकारी नहीं पहुंचा, उनका मंच पर भी स्वागत नहीं हुआ। इस बात की उन्होंने नाराजगी जाहिर की। मामले को तूल पकड़ता हुआ देख मध्यप्रदेश के मत्स्य एवं जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने मंच से ही
सभी केंद्रीय और राज्य मंत्रियों के साथ बाथम से माफी मांगी।

इसके बाद मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री तुलसी सिलावट ने मंच से सभी मंत्रियों और बाथम से माफी मांगी और कहा कि छोटा भाई अगर गलती करता है तो बड़े भाइयों को उसे हमेशा माफ कर देना चाहिए। प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना (पीएमएमएसवाय) की तीसरी वर्षगांठ पर आज ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में होने वाले आयोजन में तीन केंद्रीय मंत्री व अन्य राज्यों के कई मंत्री सहित अधिकारियों और मत्स्य पालन से जुड़े विभिन्न हितधारक शामिल हुए।

मध्य प्रदेश मत्स्य कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष सीताराम बाथम गेट पर किसी के रिसीव करने न करने और मंच पर स्वागत नहीं करने से नाराज हुए। उन्होंने जमकर हंगामा किया और वे मंच से नीचे उतरकर कार्यक्रम से जाने लगे। उन्होंने मंत्रियों के सामने अधिकारियों को लताड़ लगाई। अधिकारी उनसे माफी मांगते रहे और उन्हें मनाने का प्रयास करते रहे। अंत में सीताराम बाथम स्वागत करने और मंच पर भाषण देने की बात कहते हुए कार्यक्रम में शामिल हुए।
तीन केंद्रीय मंत्री और कई मंत्री आए

राष्ट्रीय मत्स्य विकास बोर्ड (एनएफडीबी) हैदराबाद द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए अरुणाचल प्रदेश के कृषि व मत्स्य विभाग के मंत्री तागे ताकी गुरुवार रात को ही इंदौर पहुंचे। देर रात केन्द्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला भी इंदौर आए। शुक्रवार सुबह केन्द्रीय राज्य मंत्री मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी डॉ संजीव कुमार बालियान, केन्द्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी तथा सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री डॉ एल मुरुगन इस कार्यक्रम में शामिल हुए। कार्यक्रम में मप्र सहित अन्य राज्यों के 500 से अधिक सहित अन्य राज्यों के 500 से अधिक मत्स्य पालक और जलीय कृषि क्षेत्र के मछुआरे, मछली किसान, उद्यमी, अन्य हितधारक, सरकारी अधिकारी और प्रतिभागी शामिल हुए।

Share