राजगढ़ जिले की बेटी पर्वतारोही आशा मालवीय ने सफलता पूर्वक सम्पन्न की साइकिल यात्रा, बड़े बड़े दिग्गजों ने दी बधाई

विवेक मालवीय

राजगढ़ जिले की बेटी पर्वतारोही आशा मालवीय जिले के खिलचीपुर विधानसभा के एक छोटे से नाटाराम गाव से है. अपने जीवन में आशा लगातार संघर्ष कर रही है. आशा के सर पर केवल माँ का साया है बचपन में ही पिता से साथ छुट गया था. दो बार आशा पर्वत पर चडकर पर्वतारोही आशा मालवीय बनी है. आज आशा ने पुरे देश में प्रदेश का , प्रदेश में जिले का और समाज का नाम ऊचा किया है मध्यप्रदेश के राजगढ़ जिले की बेटी पर्वतारोही आशा मालवीय ने महिला सशक्तिकरण के उद्देश्य के साथ समूचे देश के अलग अलग राज्यों से होकर 26 हजार किलोमीटर की साइकिल यात्रा सफलता पूर्वक सम्पन्न की। आज पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भोपाल के स्टेट हैंगर में पूर्व मुख्यमंत्री व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री कमलनाथ से मध्यप्रदेश की होनहार बेटी आशा को मिलवाकर उसकी उपलब्धियां बताई। कमलनाथ ने आशा बिटिया को इस ऐतिहासिक उपलब्धि के लिए बधाई दी व उसके साहस की सराहना करते हुए उज्जवल भविष्य की शुभकानाएँ दी। आशा मालवीय मध्‍यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड के सहयोग से देश के 29 राज्यों में 25 हजार 500 किलोमीटर की साइकिल यात्रा कर भोपाल लौटी हैं। पर्वतारोही आशा मालवीय द्वारा मध्यप्रदेश स्थापना दिवस के अवसर पर साइकिल यात्रा की शुरुआत की थी। देश के विभिन्न राज्यों में सुरक्षित मध्यप्रदेश का संदेश देकर यात्रा का समापन 10 माह बाद भोपाल में हुआ। देश के राज्यों का सफर कर नई दिल्ली से भोपाल लौटी हैं।

Share